Big News Coming From Adyala Imran Khan |Military Court's|Hamza Shehbaz Joota Marnay Wala Kon|Shahab

Makhdoom Shahab-ud-Din
27 Jan 202412:35

Summary

TLDRThe transcript covers recent political developments in Pakistan. It discusses the treason case against Imran Khan and possible verdicts, protests planned for February 8th, criticism of the government by PTI leaders, missing persons cases, and controversies regarding the chief justice. There is speculation that decisions against Imran Khan could be announced before February 8th to discourage his supporters from protesting. The transcript also mentions an attack on PML-N leader Hamza Shahbaz, missing TLP leader Mohsin Dawar, and notices sent by agencies to journalists and social media figures.

Takeaways

  • 😀 Najam Sethi says Imran Khan should forget becoming prime minister for the 4th time. Verdicts will now be given by public rather than behind closed doors.
  • 😠 Lawyer says they will demand death penalty or life imprisonment for Imran Khan in cypher case.
  • 😡 Military courts likely to announce verdicts before Feb 8 against Imran Khan and PTI leaders.
  • 😯 Supreme Court bars military courts from announcing verdicts in civilian cases before Feb 8.
  • 😕 FIA issues notices to 115 people including journalists for propaganda against chief justice.
  • 😀 Barrister Gauhar says PTI trusts in constitution and knows how to protect vote.
  • 🤔 N league issues whitepaper claiming foreign conspiracy behind PTI.
  • 😠 PTI strongly criticizes whitepaper by N league.
  • 😠 Shoe thrown at PMLN leader Hamza Shehbaz during rally in Lahore.
  • 😕 Lawyer says prosecution will demand death sentence for Imran Khan in cipher case according to Imran Khan's wife.

Q & A

  • What are some of the key events discussed in the transcript?

    -The transcript discusses upcoming court verdicts for Imran Khan, protests planned for February 8th, criticism of Chief Justice Umar Ata Bandial, missing persons cases, and allegations against journalists.

  • What verdicts are expected from the courts regarding Imran Khan?

    -The transcript mentions that court verdicts for Imran Khan are expected before February 8th, with some speculation that he may receive harsh punishments like life imprisonment or even the death penalty.

  • What protests are being planned for February 8th?

    -The transcript references protests being organized by Imran Khan's PTI party on February 8th, which some officials are trying to discourage or prevent from happening.

  • Why is Chief Justice Bandial facing criticism?

    -Some journalists mentioned in the transcript have criticized Chief Justice Bandial for alleged propaganda against him and other officials.

  • What was discussed regarding missing persons cases?

    -The transcript notes that activist Mohsin Dawar, who advocates for missing persons, has disappeared and his whereabouts are unknown after recent protests.

  • What allegations were made against journalists?

    -The transcript says 115 journalists were issued notices by the FIA for allegedly spreading fake news against Chief Justice Bandial and other officials.

  • What happened at a rally held by Shehbaz Sharif?

    -The transcript mentions a youth threw a shoe at Shehbaz Sharif during a rally in Lahore, prompting criticism of both the youth and Sharif's supporters.

  • What criticisms were made of the government's tactics?

    -Some commentators suggested the government's harsh actions, like crackdowns and missing persons cases, are counterproductive and damaging for the country.

  • How did the lawyers respond to notices against journalists?

    -Lawyer associations expressed concern about notices issued to journalists and Chief Justice Bandial taking notice of their statements.

  • What warning did Barrister Gohar give regarding the February 8 protests?

    -He said blocking the public on February 8th would damage the country, as PTI has public support.

Outlines

00:00

📰 Breaking News and Current Affairs

Makhdoom Shahabuddin begins with greetings and delves into critical political developments. The discourse includes Aleema Khan's warning about severe penalties for Imran Khan before February 8th, emphasizing its necessity for the system. The narration covers military court trials of civilians, mentioning that the practice commenced and was later validated by the Supreme Court of Pakistan. It also reveals that military courts are set to announce their verdicts before February 8th. Furthermore, the script highlights an incident involving Hamza Shahbaz and discusses the importance of constructive criticism in journalism. The narrative criticizes unlawful detentions and emphasizes the counterproductive nature of such actions, suggesting that they harm the country and the system.

05:02

🔍 Scrutiny of the Judiciary and Social Media Dynamics

The segment probes into the controversial notifications issued against supporters of Justice Qazi Faez Isa and the subsequent reactions, including protests and legal proceedings. The narrative unfolds the complexities of the situation, indicating that the notices, possibly intended to intimidate, backfired and led to more outspoken criticism. The segment also discusses changes in the leadership of the Federal Investigation Agency (FIA) and the issuance of notices immediately after. Furthermore, it touches upon the engagements of the Chief Justice with the registrars and the planned hearings, highlighting the intricate relations and actions within the judiciary and the repercussions on social media and public opinion.

10:04

🚨 Political Tensions and Legal Challenges

This part addresses the escalating political tension, focusing on the potential severe sentences for Imran Khan, including the possibility of a death sentence in the cypher case, as asserted by Ansar Abbasi. It also discusses the concerns raised by Aleema Khan about the prosecution's intentions and the absence of legal counsel for Imran Khan and Shah Mahmood Qureshi. The narrative reflects on the broader implications of these legal and political maneuvers, questioning whether these actions would demoralize voters or incite further public action. The summary also criticizes the crackdown on social media and asserts the inevitability of truth surfacing, concluding with a patriotic note.

Mindmap

Keywords

💡Supreme Court

The Supreme Court is the highest court in Pakistan's judicial system. The video discusses how Chief Justice Qazi Faez Isa has faced criticism and allegations. The Supreme Court's decisions related to the political situation are also mentioned.

💡Imran Khan

Imran Khan is the former Prime Minister of Pakistan who was removed from power in April 2022. The video focuses extensively on legal cases and potential sentences for Imran Khan.

💡Convoy

A convoy refers to the PTI's long march protests that were arranged across Pakistan. The video mentions the potential ban of the protest convoy scheduled for February 8th.

💡Treason

The crime of treason or sedition is mentioned in relation to legal cases against Imran Khan. The prosecution aims to get death sentences for this.

💡Establishment

The establishment refers to Pakistan's powerful military and civil bureaucracy. They are seen as facilitating Imran Khan's removal.

💡Vote of No Confidence

This refers to the no-confidence motion that resulted in the removal of former PM Imran Khan after key coalition partners withdrew support.

💡Conspiracy

Imran Khan has alleged that his government fell due to an international conspiracy. This forms part of his defence in the legal cases.

💡Accountability

The video discusses the accountability drive against opposition leaders on corruption charges. Selective accountability is an allegation.

💡Martial Law

There is speculation that the military could impose martial law or an interim government if protests escalate after Feb 8.

💡Defection

The video mentions political defections of key leaders from PTI to opposing parties, contributing to Imran Khan's situation.

Highlights

Makhdoom Shahabuddin introduces the program and discusses the importance of strict punishment for Imran Khan before February 8th.

Discussion on the necessity of severe sentencing for Imran Khan in the context of the system and regime.

The trials of civilians in military courts have begun, leading to appeals and legal discussions.

Supreme Court of Pakistan validates the trial of civilians in military courts.

Military courts are expected to announce their decisions before February 8th.

Hamza Shahbaz was hit by a shoe, sparking discussions on the identity of the perpetrator and the implications.

The crackdown on PTI supporters and the arrest of vibrant voices like Nar Mohsin from Sargodha.

FIA's action against those spreading misinformation against Chief Justice Qazi Faez Isa and other state officials.

Journalists and social media influencers receive notices for inquiry by FIA.

Controversy and protests surrounding the gifting of a mug printed with Article 19 to journalists by Qazi Faez Isa's wife.

Legal hearings set for journalists and social media influencers noticed by FIA.

Barrister Gohar's statement on Nawaz Sharif's political ambitions and the importance of public decision-making.

Imran Khan's advocacy for constitutional supremacy and public's role in governance.

The significance of voters' and supporters' reactions to potential sentencing of Imran Khan.

The role of social media in shaping public opinion and the impact of government crackdowns.

Transcripts

play00:00

बिस्मिल्लाह रहमान रहीम अस्सलाम वालेकुम

play00:01

नाजरीन कराम मैं हूं मखदूम शहाबुद्दीन और

play00:03

आप देख रहे हैं मेरा

play00:30

पहले कप्तान को फांसी इस हवाले से अलीमा

play00:33

खान जो कि इमरान खान साहब की हम शरा हैं

play00:36

ना सिर्फ उन्होंने खबरदार किया है बल्कि

play00:38

ताकतवर के और नवाज शरीफ के करीब समझे जाने

play00:41

वाले घर के भेदी ने भी लंका ढा दी है और 8

play00:45

फरवरी से पहले इमरान खान साहब के लिए सख्त

play00:48

से सख्त सजा का ऐलान सिस्टम के लिए निजाम

play00:51

के लिए क्यों जरूरी है इस बात को भी

play00:53

डिस्कस कर लेंगे इसके साथ ही साथ मिलिट्री

play00:56

कोर्ट्स में जो सिविलियंस हैं उनके ट्रायल

play00:58

के हवाले से आपको पता है कि यह अ शुरू हो

play01:01

चुका था फिर यह ट्रायल कल अदम हुआ फिर

play01:04

इसके ऊपर प्रैक्टिस एंड प्रोसीजर एक्ट के

play01:06

तहत यह जो ट्रायल है मिलिट्री कोर्ट्स में

play01:09

सिविलियंस का उसके ऊपर एक अपील आई फिर

play01:12

मिलिट्री कोर्ट्स में सिविलियन का ट्रायल

play01:13

जायज करार दिया गया सुप्रीम कोर्ट ऑफ

play01:15

पाकिस्तान की तरफ से और ट्रायल मुकम्मल था

play01:18

अब मैं आपको यह भी खबर दे दूं कि सोर्सेस

play01:20

ये बता रहे हैं कि मिलिट्री कोर्ट जो है

play01:22

वो अपना फैसला 8 फरवरी से पहले सुनाएगी अब

play01:25

यह वजह क्या है यह भी बड़ी इंटरेस्टिंग है

play01:28

कि यह सब कुछ क्यों होगा इसके साथ साथ

play01:30

हमजा शहबाज जो हैं उन्हें जूता पड़ा है और

play01:32

इस पर भी बात करनी है क्योंकि जूता मारने

play01:35

वाला कौन है इस कहानी का असल रुख क्या है

play01:38

वो रुख भी आपके सामने रखना है ये सारी

play01:39

खबरें एक-एक करके आपके सामने रखते हैं अगर

play01:41

अभी तक आपने इस वीडियो को लाइक नहीं किया

play01:43

तो लाइक जरूर कर लें क्योंकि आपके लाइक्स

play01:45

और कमेंट्स हम हमारे लिए बहुत ज्यादा

play01:46

अहमियत के हामिया हमारे चैनल्स को लगातार

play01:48

रिपोर्ट किया जाता है ताकि हमारी आवाज

play01:50

ज्यादा लोगों तक ना पहुंच सके इस असर को

play01:52

जायल करने में आपके लाइक्स और कमेंट्स एक

play01:55

बहुत अहम किरदार अदा करते हैं और इस वक्त

play01:57

नाजरीन कराम क्रैकडाउन जो है उसका आगाज

play01:59

आपको पता पता है कि पहले से हो चुका हुआ

play02:01

है और गुजर्ता रात भी जो क्रैकडाउन हुआ वो

play02:04

इंतहा तश्वी सेनाक था बल्कि मेरे अपने शहर

play02:06

सरगोधा से नर मोहसिन है और यह पाकिस्तान

play02:09

तहरीक इंसाफ के बड़े एक वाइब्रेंट और एक

play02:12

बड़ी वोकल आवाज है इन्होंने जश्ने मौलूद

play02:15

काबा की एक तकरीब का नकाद भी किया और

play02:17

उसमें खुलकर जाहिरी बात है जम्हूर हक है

play02:19

अपना कॉन्स्टिट्यूशन राइट एक्सरसाइज किया

play02:21

इमरान खान साहब के हक में तकरीर भी की और

play02:23

इन्हें कल से उठा लिया गया किसी को नहीं

play02:25

पता यह कहां पर है किस हाल में है और

play02:27

लापता हैं गायब हैं गुमशुदा हैं इवा हैं

play02:31

24 घंटे से जायद का वक्त हो चुका है और इस

play02:34

तरह के ला तादाद केसेस हैं मैं ये समझता

play02:36

हूं कि ये चीजें काउंटर प्रोडक्टिव हैं

play02:38

इनका फायदा कोई नहीं हो रहा अगर कोई यह कर

play02:40

भी रहा है वो अगर इसके इंपैक्ट को समझे तो

play02:43

यह चीजें उल्टी नुकसान दे हैं और इससे

play02:46

मुल्क का भी नुकसान है सिस्टम का भी

play02:48

नुकसान है और यह सब कुछ क्यों हो रहा है

play02:51

वहीं दूसरी जानिब आप देखें ना कि जो एफ

play02:53

आईए वाली पूरी एक कंट्रोवर्सी आई है सामने

play02:55

कि एफ आईए ने चीफ जस्टिस सुप्रीम कोर्ट

play02:57

काजी फाइज ईसा और रियासती दारो के खिलाफ

play02:59

गलत गलत मालूमात फैलाने वालों के खिलाफ अ

play03:01

सख्त एक्शन लेते हुए 115

play03:06

इंक्वायरिंग तरीन लोग हैं इसमें काजी साहब

play03:09

के एक वक्त के अंदर बड़े हामी समझे जाने

play03:11

वाले साफी मतीउल्लाह जान असद तूर भी हैं

play03:14

इमरान रियाज भी हैं और कुछ लोगों को अभी

play03:16

नोटिस भेजा गया है यह मरहला बर अभी दो-तीन

play03:18

मरहले के अंदर सारों को जो इंपॉर्टेंट

play03:20

यूट्यूब हैं जो अहम तरीन लोग हैं उन सबको

play03:23

नोटिसेज आने हैं और सोशल मीडिया की 47

play03:26

मारूफ शख्सियत जो हैं उन्हें नोटिसेज जारी

play03:28

किए गए अच्छा नोटिसेज आए इसके बाद एक और

play03:31

खबर आ गई अचानक क्योंकि तन कीद बहुत

play03:32

ज्यादा हो रही थी एक दो जर्नलिस्ट जो हैं

play03:34

जिन्हें काजी फाइज ईसा साहब की अलिया ने

play03:37

पिछले दौर में फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन का वो

play03:39

जो आइन के अंदर दर्ज है ना आर्टिकल वो मग

play03:42

मग के ऊपर प्रिंट करवा के गिफ्ट भेजा तो

play03:44

अब एक साफी है उन्होंने अनाउंस किया कि

play03:46

मैं ये गिफ्ट वापस भेज रहा हूं एहतेजाज

play03:47

इसके बाद अ जो सुप्रीम कोर्ट प्रेस

play03:50

एसोसिएशन ऑफ सुप्रीम कोर्ट है और हाई

play03:52

कोर्ट जर्नलिस्ट एसोसिएशन है उन्होंने भी

play03:54

लामय जारी किए अब हुआ यह है कि काजी साहब

play03:57

जो हैं उन्होंने सफिया के नाम जेआईटीपीएल

play03:59

में आने के बाद प्रेस एसोसिएशन ऑफ सुप्रीम

play04:01

कोर्ट और हाई कोर्ट जनल जर्नलिस्ट

play04:03

एसोसिएशन के लामय का नोटिस ले लिया साफिन

play04:06

से मुतालिक केस जो है वो पीर को समात के

play04:08

लिए मुकर्रर कर दिया है और चीफ जस्टिस

play04:11

साहब ने जो दोनों प्रेस एसोसिएशंस हैं

play04:13

उनके सुदूर से यह गुफ्तगू की है और तीन

play04:15

रुकनी बेंच जो है मेरे काजी की सरब आही

play04:17

में वो होगा अब इसमें जो काबिले गौर बात

play04:19

है वो यह है कि जस्टिस काजी फीसा पर तन

play04:22

कीद करने वालों के खिलाफ जीआईटीएम तकरीबन

play04:24

15 रोज पहले हुआ था अ फिर जीआईटीबी

play04:27

जेआईटीएफ सेकेन जारी हुआ इस

play04:31

जेआईटीएफ पीटीए और

play04:58

एफआईएनएक्सएल बनी थी नोटिस लोगों को जारी

play05:02

हुए इंक्वायरिंग उसके बाद नोटिस लेने का

play05:04

क्या मकसद है शायद इसकी एक वजह तो यह भी

play05:06

है कि काजी साहब पर बनाई गई

play05:09

जीआईटीबी में बचे कुछ हामी थे उनमें से भी

play05:13

कोई एक सामने नहीं आया सबने तन कीद की है

play05:15

और जाहिरी बात है कि जो एक एक वजह ये भी

play05:18

है कि जिन लोगों को नोटिसेज जारी हुए वो

play05:21

उससे ज्यादा खुलकर बोलना शुरू हो गए और

play05:23

चीजें जो है वो उल्टी पड़ गई क्या इसका

play05:25

मतलब लोगों को एक डराना था और अब काजी

play05:27

साहब जो है उन्होंने इसके ऊपर नोटिस ले

play05:29

लिया और अब वो इस इन नोटिसेज को अगर कलादम

play05:31

भी करार दे देते हैं अच्छा एफ आईए के डीजी

play05:33

साहब भी बदल गए और एफ आईए के डीजी के

play05:36

बदलते ही ये नोटिसेज जारी हो गए ये सारी

play05:38

कड़ियों से कड़ियां मिलाएं तो ये इतनी

play05:39

सादा चीज तो नहीं है कि ऑरेल चीफ जस्टिस

play05:42

और इसमें ये भी तलात है कि जो रजिस्ट्रार

play05:44

हैं उनके साथ भी मुलाकात हुई ओकाम की और

play05:47

इससे पहले काफी हफ्ते पहले और काजी साहब

play05:50

के खिलाफ प्रोपेगेंडा और इन चीजों के ऊपर

play05:52

तो ये सब कुछ क्या है क्या नहीं है चले

play05:54

सोमवार को पता चल जाएगा अभी तो नोटिसेज का

play05:56

इंतजार कर रहे हैं अगले बैच वाले लोग

play05:58

क्योंकि अभी तो 65 लोग लोगों को नोटिस

play06:00

भेजा है अभी मजीद और नोटिसेज आने हैं और

play06:02

कुछ और बड़े-बड़े नाम आने हैं सब तैयार

play06:04

बैठे हैं नोटिसेज के लिए बल्कि बहुत से

play06:07

लोग तो हैं वो अपने घर वालों को कह रहे

play06:08

हैं कि नोटिस जरा चेक करें आया कि नहीं

play06:11

लेटर कोई मिस ना हो जाए काजी साहब की

play06:13

तौहीन का नोटिस जो है लेकिन मैं समझता हूं

play06:15

देखें कंस्ट्रक्टिव क्रिटिसिजम लेट्स बी

play06:17

वेरी ऑनेस्ट हियर कंस्ट्रक्टिव

play06:18

क्रिटिसिज्म ठीक है बिल्कुल किसी को मलाइन

play06:21

बिला वजा नहीं करना चाहिए कंस्ट्रक्टिव

play06:23

क्रिटिसिजम जो आईन में हमें इजाजत है गलत

play06:25

खबर ना शेयर करें झूठ नहीं बोलना चाहिए

play06:27

फेक खबर शेयर नहीं करनी चाहिए

play06:29

कंस्ट्रक्टिव क्रिटिसिज्म अखलाक यात के

play06:31

दायरे में रहकर करने के हजारों तरीके हैं

play06:33

और वह इफेक्टिव भी ज्यादा होता है तो उसके

play06:35

ऊपर तो कभी भी कोई कद गन लगेगी तो हम उसके

play06:37

खिलाफ आवाज उठाएंगे वहीं दूसरी जानिब

play06:39

पाकिस्तान तहरीक इंसाफ के रहनुमा बैरिस्टर

play06:41

गौर साहब ने कहा है कि जी नवाज शरीफ चौथी

play06:42

बार वजीर आजम का ख्वाब छोड़ दें फैसले अब

play06:45

बंद कमरों के बजाय पाकिस्तान के आवाम

play06:47

करेंगे अ इन्होंने एक कन्वेंशन में खिताब

play06:49

में कहा कि बानी पीटीआई इमरान खान आईन की

play06:51

बाला दस्ती पर यकीन रखते हैं बानी पीटीआई

play06:53

के टाइगर्स वोट की हिफाजत करना जानते हैं

play06:55

डीलो की हुकूमत नहीं चलेगी अगर 8 फरवरी को

play06:57

आवाम को रोका गया तो मुल्क का नुकसान होगा

play07:00

बानी पीटीआई आवाम के दिलों में है निशान

play07:02

कोई माने नहीं रखता जो इंपॉर्टेंट बात

play07:04

इन्होंने की है वो यह है कि अगर 8 फरवरी

play07:06

को आवाम को रोका गया तो मुल्क का नुकसान

play07:09

होगा अब यह बात बड़ी इंपॉर्टेंट है इसे

play07:11

कोई समझे या ना समझे वो एक अलग बात है नून

play07:13

लीग ने अपना एक मंशोर भी जारी किया है और

play07:17

इसके ऊपर पाकिस्तान तहरीक इंसाफ की तरफ से

play07:19

भी तन कीद की गई है और बड़ा कंस्ट्रक्टिव

play07:22

किस्म का जो क्रिटिसिज्म है वो इस वक्त

play07:25

सामने आया है इसके ऊपर और ओबवियसली यह हक

play07:29

भी है अब जरा अहम तरीन खबरों के ऊपर आ

play07:31

जाते हैं जो तश्वी नाक भी है हमजा शहबाज

play07:33

जो हैं इनके ऊपर अ जूता उछाला गया है और

play07:36

लाहौर में इनके अपने घड़ में इंतखाब रैली

play07:38

के दौरान इन पर जूता उछाला गया लिबान इधर

play07:40

करके लगा सबसे पहले देखें फिजिकल अटैक

play07:43

चाहे जो भी होगा ना मैं उसकी मजम्मत

play07:44

करूंगा ये रविश नहीं होनी चाहिए देयर इज

play07:47

ऑलवेज अ डिफरेंट वे टू एक्सप्रेस योर

play07:50

प्रोटेस्ट और अपना प्रोटेस्ट रजिस्टर

play07:52

करवाने के हजारों तरीके हैं लोग नारे

play07:53

लगाते हैं नारों की इजाजत है अ आवाज उठाएं

play07:57

आप अपना जूरी हक एक्सरसाइज करें लेकिन

play07:59

बिल्कुल फिजिकल नहीं होना चाहिए अब यहां

play08:01

पर मैं आपको यह बता दूं कि साबिक वजीर आला

play08:03

पंजाब और हल्का एनए 118 से नून लीगी

play08:05

उम्मीदवार शहबाज हमजा शहबाज जो हैं इनकी

play08:08

इंतखाब रैली अंदर लाहौर के इलाके एक

play08:11

सिनेमा चौक है उसके करीब तरन्नुम सिनेमा

play08:13

चौक उसके करीब पहुंची तो एक नौजवान ने इन

play08:16

पर जूता उछाल दिया अच्छा मैं आपको यह भी

play08:18

बता दूं कि जो नौजवान है जिसने यह जूता

play08:22

उछाला उसके ऊपर नून लीगी कारकुन ने बदतर

play08:25

किस्म का तशदूद किया उसकी भी मजम्मत करनी

play08:27

चाहिए ठीक है उस नौजवान ने गलत किया उसे

play08:29

कानून के हवाले करें उसे जेल में डलवाए

play08:31

थाने लेकर जाएं पुलिस के पास लेकर जाएं

play08:33

खुद कानून को हाथ में ना ले तो वो भी गलत

play08:35

है लेकिन पहल उस नौजवान ने की वो भी गलत

play08:37

लेकिन उसके बाद जो उसे बदतर किस्म के

play08:39

तशदूद का नौजवान को निशाना बनाया गया वो

play08:42

भी गलत है अब इस नौजवान के हवाले से

play08:44

ओबवियसली ये पीटीआई की ऊपर कुछ साफी इन्हो

play08:46

ने छोड़ दिया कि जी पीटीआई का मामला है ये

play08:47

नौजवान के हवाले से यह बात सामने आ रही है

play08:49

कि ये मदरसे का कोई तालिब इल्म है और इसे

play08:54

टीएलपीएल कबल अज वक्त है इसे

play08:59

टीआई का कारकून कह देना अगर मदरसे का है

play09:00

तो इसका 100% मतलब तो यह नहीं होगा कि

play09:04

टीएलपीएल मीडिया पर चल रही है तो यह आपके

play09:06

सामने रखना बहुत जरूरी थी अब यहां पर

play09:08

जाहिद गश कोरी साहब हैं साफी हैं और बड़ी

play09:10

इंपॉर्टेंट खबरें होती है इन्वेस्टिगेटिव

play09:12

जर्नलिस्ट हैं ये इंक्वायरी वाली भी सारी

play09:14

खबर इन्होंने दी थी इन्होंने एक बड़ी

play09:16

इंपॉर्टेंट बात कर दी है मिलिट्री कोर्ट्स

play09:18

के अंदर सिविलियंस का ट्रायल चल रहा था

play09:20

फिर इसके ऊपर जस्टिस इजाजुल एसन साहब जो

play09:22

हैं उन्होंने एक बेंच बना काजी साहब ने

play09:24

बेंच बनाया जस्टिस अजा हसन ने मिलिट्री

play09:26

कोर्ट्स के अंदर सिविलियंस के ट्रायल को

play09:28

उड़ा के रख दिया यह भी हमने देखा अच्छा

play09:30

उसके बाद क्या हुआ जी जस्टिस इजाजुल हैसन

play09:33

साहब जो हैं उनके इस बेंच के फैसले को एक

play09:36

और बेंच मेरे काजी ने बनाया जो कि कलादम

play09:38

करार दे दिया गया इस फैसले को उसके ऊपर

play09:39

जस्टिस इजाजुल एसन साहब ने एतजाज भी किया

play09:41

कि ये जजेस के जो बेंच बनाया काजी साहब ने

play09:44

ठीक नहीं बनाया जजेस कमेटी में डिस्कस

play09:45

नहीं हुआ था लेकिन उसके बाद जो सिविलियंस

play09:48

का ट्रायल है वो तो मुकम्मल हो चुका है

play09:50

उसके ऊपर फैसला सुनाने से सुप्रीम कोर्ट

play09:52

ने रोका था पता नहीं इससे पहले क्या कोई

play09:54

सुप्रीम कोर्ट का डिसीजन आता है मिलिट्री

play09:56

कोर्ट्स के हवाले से यह बात जाहिद गश कोरी

play09:57

साहब ने ये क्लेम किया है कि मिलिट्री

play09:59

कोर्ट्स वुड लाइक अ वुड लाइक टू अनाउंस

play10:01

देयर जजमेंट्स बिफोर फरवरी 8 8 फरवरी से

play10:04

पहले-पहले मिलिट्री कोर्ट्स जो हैं वो

play10:05

अपना फैसला सुनाएंगे और लोग जो मिलिट्री

play10:07

कोर्ट्स की तहवील में है उन्हें जो सजाएं

play10:09

उनकी बनती हैं या फिर जो मिलिट्री कोर्ट्स

play10:11

को लगता है कि उनकी ये सजाएं हैं नाइंथ ऑफ

play10:13

मै का जो इंसिडेंट था अनफॉर्चूनेटली नहीं

play10:16

होना चाहिए था पाकिस्तान की तारीख में उस

play10:18

इंसिडेंट के अ तनाज में आप ये देखें ना कि

play10:22

अ ये एक बड़ी अहम स्टेटमेंट होगी 8 फरवरी

play10:25

से पहले अच्छा उसके साथ-साथ नजम सेठी साहब

play10:27

वापस अ साफी बन गए हैं स वहां पे

play10:29

प्रोग्राम भी शुरू किया है और उन्होंने

play10:31

कहा है कि जी इमरान खान साहब के फैसले आना

play10:33

बहुत जरूरी है और इनके मुकद्दमा में

play10:35

अदालतों से क्या फैसले आने हैं नजम सेठी

play10:37

साहब ने एक तरह से खतरे की घंटी बजाई एक

play10:39

तो उन्होंने कहा है कि जी 8 फरवरी को कोई

play10:40

इंकलाब नहीं आना कोई इंकलाब वगैरह का

play10:42

प्लान नहीं है और यही बात हो रही है कि जी

play10:45

इमरान खान साहब जो हैं अ उन्हें अ इससे

play10:48

पहले ही कोई ना कोई सजा दे दी जाएगी और

play10:51

ऐसी सजा अनाउंस होगी इमरान खान साहब के

play10:53

लिए कि इमरान खान साहब जो हैं अ उससे उनका

play10:57

जो वोटर और सपोर्टर है वह मायूस हो जाएगा

play10:59

और वो निकलेगा ही नहीं यानी अब हल ये बच

play11:01

गया कि लोग निकले ना आजाद और इतने

play11:03

अजीबोगरीब सिंबल्स देने के बावजूद आप इस

play11:05

नुक्ते को समझिए अब यहां पर जो इंपॉर्टेंट

play11:08

तरीन एस्पेक्ट है इंपॉर्टेंट तरीन चीज है

play11:10

जो आपने समझनी है जिस पर गौर करना है जो

play11:12

कि बहुत ज्यादा अहमियत की हामिया वो

play11:14

नाजरीन किराम ये है कि इस वक्त जो लेटेस्ट

play11:16

सूरते हाल है उसमें इमरान खान साहब के

play11:19

हवाले से अंसार अब्बासी साहब ने तो पहले

play11:20

ही कहा कि प्रोसीक रिजवान अब्बासी जो हैं

play11:22

वो ये कह रहे हैं कि साइफर केस में हम

play11:23

अदालत से इमरान खान साहब के लिए फांसी

play11:26

सजाए मौत यानी कि तख्ता एदार या फिर उमर

play11:29

कैद की सख्त सजाएं ही मांगेंगे इमरान खान

play11:31

साहब की अलिया जो हैं इमरान खान साहब की

play11:33

हमीरा सॉरी अलीमा खान साहिबा उन्होंने यह

play11:35

दावा किया है कि प्रोसीक की जानिब से आज

play11:37

इमरान खान को सजाए मौत देने की गुजारिश कर

play11:39

दी गई है अच्छा इमरान खान साहब और शाह

play11:41

महमूद कुरेशी साहब को आज उनके वकील नहीं

play11:43

थे तो उन्हें सरकारी वकील को उनके

play11:45

दिफाई ही नहीं मतलब इस तरह से यह ट्रायल

play11:48

आगे चल सकता है और यह चीज जो है अगर आप

play11:50

इसे सारे डॉट्स को कनेक्ट करें और चीजों

play11:53

को इस इक्वेशन में डालें आप नुक्ता मेरा

play11:56

समझें आप चीजों को इक्वेशन में डालें आप

play11:59

समझे आप जो जाहिद गश कोरी साहब ने बात की

play12:01

उसके बाद जी जो नजम सेठी साहब बात करें

play12:03

फिर इमरान खान साहब के लिए फांसी या उमर

play12:05

कैद का ऐलान और ऑब् वियस सवाल यह है कि

play12:08

क्या वोटर को मायूस करने के लिए खान साहब

play12:10

को अगर उमर कैद की सजा आप दे देते हैं या

play12:12

अल्लाह ना करे फांसी का ऐलान कर देते हैं

play12:14

या कुछ ऐसा हो जाता है क्या उससे वोटर

play12:16

मायूस होगा या ज्यादा निकलेगा ये वैसे

play12:17

फैसला साजों ने अभी तक नहीं सोचा होगा और

play12:19

उन्हें खुद भी नहीं अंदाजा होगा होना क्या

play12:21

है लेकिन ये सारे तदबीरें अभी तक उल्टी

play12:23

पड़ी है तो ये भी उल्टी पड़ जाएगी आवाम को

play12:25

सब समझ आ रही है सोशल मीडिया को जितना

play12:28

मर्जी आप कैक डाउन करें बंद करें ये सारी

play12:30

चीजें करें लेकिन सच जो है वो तो सामने आ

play12:32

ही जाता है अपना बहुत ख्याल रखें अल्लाह

play12:33

निगहबान पाकिस्तान जिंदाबाद